मंगलवार, 3 नवंबर 2009

मंत्र का स्वरुप

मन्त्र का स्वरुप

संस्कृत और देवनागरी वर्णमाला की लिपि अक्षर से शुरू होती है / अक्षर वह होता है जिसका की कभी क्षरण याने की नाश नही होता / तो मंत्र कुछ अक्षरो का इस प्रकार किया गया संयोजन है की उसमे विशेष शक्ति उत्पन्न करने की सामर्थ्य आ जाती है / और वह शक्ति ही साधक का सर्वतोमुखी कल्याण करती है /
मंत्र विभिन्न प्रकार के होते है जैसे की वैदिक मंत्र , तांत्रिक मंत्र , शाबरमंत्र , जैन मंत्र , तिब्बती लामाओ के मंत्र , बोद्ध मंत्र और कुछ महापुरुषों की वाणिया भी मंत्र की तरह प्रयुक्त होती है /
वेदों और उपनिषदों की ऋचाओ को वैदिक मंत्र कहते है / कुछ मंत्र जो की विशेष विधि-विधान पूर्वक संपन्न किए जाते है वो तांत्रिक मंत्र कहलाते है / गोरखनाथ जैसे सिद्ध पुरुषों द्वारा प्रतिपादित मंत्रो को शाबर मंत्र कहते है / जैन सिद्ध पुरुषों ने विभिन्न मंत्रो की रचना की है जो की जैन समाज में प्रचलित है / तिब्बती लामाओ के मंत्र और विधि विधान सबसे भिन्न और जटिल तथा महाशक्ति संपन्न है / बोध धर्म में कुछ मंत्रो की उपासना की जाती है /

सभी मंत्र सभी लोगो के लिए उपायुक्त नही होते / इसमे भी मित्र ,शत्रु ,सिद्ध, सुसिध का विचार किया जाता है / एक मंत्र किसी के लिए मित्र है तो दुसरे के लिए अरि हो जाता है व अन्य के सिद्ध या सुसिध हो जाता है /

दस महाविद्याओ और शिव , विष्णु के सभी अवतार , देवी के मंत्रो के लिए मित्र ,अरि ,सिद्ध ,सुसिध का विचार नही किया जाता क्योंकि ये स्वयं सिद्ध मंत्र कहलाते है अन्य मंत्रो में इसका विचार करना आवश्यक हो जाता है नही तो मंत्र लाभ के स्थान पर हानी देने लगता है /
कुछ मंत्रो के साथ विशेष विधि-विधानों की आवश्यकता होती है नही तो मंत्र फल प्रदान करने की स्थिति में नही आता जैसे की श्री वशिस्ठ ऋषि ने माँ तारा की कई वर्षो तक आराधना की पर माँ प्रसन्न नही हुई तो वे बड़े निराश हुए तो माँ ने ही उन्हें ज्ञान कराया की माँ तारा की उपसना चिनासार पद्धति से फलप्रद होती है /

अस्तु शुभमस्तु

6 टिप्पणियाँ:

परमजीत बाली ने कहा…

अच्छी जानकारी है आभार।

पूर्णिमा वर्मन ने कहा…

किसी भी समस्या के समाधान के लिए मुझसे संपर्क करे ?
यह भी तो बताएँ कि समाधान मुफ़्त होता है या पैसे लगते हैं।

Amit K Sagar ने कहा…

चिट्ठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है.
लिखते रहिये, शुभकामनाएं.
---
महिलाओं के प्रति हो रही घरेलू हिंसा के खिलाफ [उल्टा तीर] आइये, इस कुरुती का समाधान निकालें!

डॉ. राधेश्याम शुक्ल ने कहा…

tantra mantra ka achha gyan, abhinanadan.

alkagoel ने कहा…

ब्लॉग जगत के साथियो नई जानकारी कमाई की
ब्लॉग जगत के साथियो एक नयी एअर्निंग तकनीक के साथ ब्लॉग जगत में आप सबका स्वागत है अद्सेंसे ने नई साथ दिया तो किया है इन सब को अजमाकर देखे और बताये कैसी रही जानकारी साथ ही कमाई भी ........http://alkagoel1408.blogspot.com/

अजय कुमार ने कहा…

हिंदी ब्लॉग लेखन के लिए स्वागत और शुभकामनायें
कृपया अन्य ब्लॉगों पर भी जाएँ और अपने सुन्दर
विचारों से अवगत कराएँ

एक टिप्पणी भेजें