गुरुवार, 7 अगस्त 2014

माँ स्वप्नेश्वरी मंत्र


ॐ ह्रांग क्लींग रक्तचामुंडे स्वप्ने कथ्य कथ्य शुभाशुभम ॐ फट स्वाहा !

।। विधि ।।

इस साधना को आप किसी भी दिन से शुरू कर सकते हैं ! रात्रि को सोते समय अपने बिस्तर पर बैठ कर इस मंत्र का 1100 बार जप करें ! माला कोई भी इस्तेमाल कर सकते हैं और यदि माला न हो तो हाथो पर भी कर सकते हैं ! यह क्रिया 21 दिन करनी हैं और यह साधना पूर्णत: गुप्त रहनी चाहिए ! माता से प्रार्थना करे कि स्वप्न में मुझे दर्शन दे और सिद्धि प्रदान करें ! अंतिम दिन ( 22वे दिन ) किसी कंवारी कन्या को भोजन कराएं और दक्षिणा दें ,मन्त्र सिद्ध हो जाएगा ! कन्या की उम्र 10 साल से कम होनी चाहिए !



।। प्रयोग ।।

जब भी इस मंत्र का प्रयोग करना हो तो 1100 मंत्र जप अपने बिस्तर पर बैठ कर करें और देवी से प्रार्थना करें , आपको स्वप्न में उत्तर मिल जाएगा ! माँ स्वप्नेश्वरी आप सब पर कृपा करे और आप सब को सिद्धि प्रदान करे ! इसी आशा के साथ 

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें