सोमवार, 6 अक्तूबर 2014

नाभि या धरन ठीक करने का मंत्र -2

बहुत से लोग जो नाभि टलने  के रोग से पीड़ित रहते है और बार बार मुझसे धरण /नाभि  ठीक करने के उपाय पूछते है उनके लिए निम्न मंत्र विधि दे रहा हु प्रयोग करे और लाभ उठाएं । 


मंत्र संख्या -2 

ॐ  नमो नाड़ी नाड़ी नौ सै बहत्तर सौ कोस चले अगाडी डिगे न कोण चले न नाड़ी रक्षा करे जति हनुमंत की आन मेरी भक्ति गुरु की शक्ति फुरो मंत्र ईश्वरोवाचा । 

विधि :- इस मंत्र को ग्रहण , दिवाली की महानिशा बेला में धुप दीप देकर  108 जप करके सिद्ध करले ।  कच्चे सूत के धागे में 9 गांठ लगाले उसे छल्ले की भांति बनाले उसे रोगी की नाभि पर रखकर इस मंत्र को 108 बार पढ़ते हुए नाभि के ऊपर फूक मारने से धरण ठिकाने पर आ जाती है । 

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें