रविवार, 29 सितंबर 2013

|| काली पञ्च वाण ||

आज के इस युग में प्रत्येक व्यक्ति अच्छे रोजगार
की प्राप्ति में लगा हुआ है पर बहुत प्रयत्न करने पर
भी अच्छी नौकरी नहीं मिलती है ! रोजगार
सम्बन्धी किसी भी समस्या के समाधान के लिए इस मन्त्र
का प्रतिदिन 11बार सुबह और 11बार शाम को जप करे !
प्रथम वाण
ॐ नमः काली कंकाली महाकाली
मुख सुन्दर जिए ब्याली
चार वीर भैरों चौरासी
बीततो पुजू पान ऐ मिठाई
अब बोलो काली की दुहाई !
द्वितीय वाण
ॐ काली कंकाली महाकाली
मुख सुन्दर जिए ज्वाला वीर वीर
भैरू चौरासी बता तो पुजू
पान मिठाई !
तृतीय वाण
ॐ काली कंकाली महाकाली
सकल सुंदरी जीहा बहालो
चार वीर भैरव चौरासी
तदा तो पुजू पान मिठाई
अब बोलो काली की दुहाई !
चतुर्थ वाण
ॐ काली कंकाली महाकाली
सर्व सुंदरी जिए बहाली
चार वीर भैरू चौरासी
तण तो पुजू पान मिठाई
अब राज बोलो
काली की दुहाई !
पंचम वाण
ॐ नमः काली कंकाली महाकाली
मख सुन्दर जिए काली
चार वीर भैरू चौरासी
तब राज तो पुजू पान मिठाई
अब बोलो काली की दोहाई !
|| विधि ||
इस मन्त्र को सिद्ध करने की कोई आवश्यकता नहीं है !
यह मन्त्र स्वयं सिद्ध है केवल माँ काली के सामने
अगरबती जलाकर 11 बार सुबह और 11 बार शाम को जप
कर ले ! मन्त्र एक दम शुद्ध है भाषा के नाम पर हेर फेर न
करे !शाबर मन्त्र जैसे लिखे हो वैसे ही पढने पर फल देते है
शुद्ध करने पर निष्फल हो जाते है

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें