बुधवार, 25 दिसंबर 2013

तेल मोहन

तेल मोहन 

ॐ नमो मन मोहिनी  मोहिनी चला गैर के मस्तक  धरा तेल का दीपक जला । जल मोहूँ  थल मोहूँ  मोहूँ सारा  

जगत । मोहिनी रानी जा शैय्या पे ला । न लाये तो गौरा पारवती कि दुहाई । लोन चमारिन कि दुहाई  नहीं तो 

वीर हनुमान कि आन । 


इस मंत्र से अभिमंत्रित चमेली  का तेल जिस स्त्री पर  छिड़क दिया जायेगा वो साधक के वश में हो जायेगी । 

मंत्र सिद्ध करने कि विधि गुप्त रहेगी जिससे इसका दुरुपयोग न हो सके । जिन पुरुषो का अपनी पत्नी से 

वैवाहिक सम्बन्ध अच्छा न चल रहा हो वो इसका प्रयोग करे । सम्बन्धो में मधुरता आ जायेगी । विधि जानने के लिए मुझसे संपर्क करे । 

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें