शुक्रवार, 20 फ़रवरी 2015

रूद्राक्ष के २१ प्रकार

रूद्राक्ष के २१ प्रकार

======================================

1. एक मुखी रुद्राक्ष को साक्षात शिव का रूप माना जाता है। इस एकमुखी 

रुद्राक्ष द्वारा सुख-शांति और मोक्ष की प्राप्ति होती है. तथा भगवान

आदित्य का आशिर्वाद भी प्राप्त होता है।


2. दो मुखी रुद्राक्ष या द्विमुखी रुद्राक्ष शिव और शक्ति का स्वरुप माना


 जाता है। इसमें अर्धनारीश्व का स्वरूप समाहित है तथा चंद्रमा की

 शीतलता प्राप्त होती है।


3. तीन मुखी रुद्राक्ष को अग्नि देव तथा त्रिदेवों का स्वरुप माना गया है। 


तीन मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है तथा पापों 

का शमन होता है।


4. चार मुखी रुद्राक्ष ब्रह्म स्वरुप होता है। इसे धारण करने से नर हत्या


 जैसा जघन्य पाप समाप्त होता है। चतुर्मुखी रुद्राक्ष धर्म, अर्थ काम एवं 

मोक्ष को प्रदान करता है।


5. पांच मुखी रुद्राक्ष कालाग्नि रुद्र का स्वरूप माना जाता है। यह पंच 


ब्रह्म एवं पंच तत्वों का प्रतीक भी है। पंचमुखी को धारण करने से 

अभक्ष्याभक्ष्य एवं स्त्रीगमन जैसे पापों से मुक्ति मिलती है. तथा सुखों को

 प्राप्ति होती है।


6. छह मुखी रुद्राक्ष को साक्षात कार्तिकेय का स्वरूप माना गया है। इसे

 शत्रुंजय रुद्राक्ष भी कहा जाता है यह ब्रह्म हत्या जैसे पापों से मुक्ति तथा

 एवं संतान देने वाला होता है।


7. सात मुखी रुद्राक्ष या सप्तमुखी रुद्राक्ष दरिद्रता को दूर करने वाला होता


 है। इस सप्तमुखी रुद्राक्ष को धारण करने से महालक्ष्मी की कृपा प्राप्त 

होती है।


8. आठ मुखी रुद्राक्ष को भगवान गणेश जी का स्वरूप माना जाता है।


 अष्टमुखी रुद्राक्ष राहु के अशुभ प्रभावों से मुक्ति दिलाता है तथा पापों का

 क्षय करके मोक्ष देता है।


9. नौ मुखी रुद्राक्ष को भैरव का स्वरूप माना जाता है। इसे बाईं भुजा में


 धारण करने से गर्भहत्या जेसे पाप से मुक्ति मिलती है। नौमुखी रुद्राक्ष

 को यम का रूप भी कहते हैं। यह केतु के अशुभ प्रभावों को दूर करता है।


10. दस मुखी रुद्राक्ष को भगवान विष्णु का स्वरूप कहा जाता है। दस 


मुखी रुद्राक्ष शांति एवं सौंदर्य प्रदान करने वाला होता है। इसे धारण करने

 से समस्त भय समाप्त हो जाते हैं।


11. एकादश मुखी रुद्राक्ष साक्षात भगवान शिव का रूप माना जाता है। 


एकादश मुखी रुद्राक्ष को भगवान हनुमान जी का प्रतीक माना गया है। 

इसे धारण करने से ज्ञान एवं भक्ति की प्राप्ति होती है।


12. द्वादश मुख वाला रुद्राक्ष बारह आदित्यों का आशीर्वाद प्रदान करता


 है। इस बारह मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से अश्वमेघ यज्ञ के समान यह

 फल प्रदान करता है।


13. तेरह मुखी रुद्राक्ष को इंद्र देव का प्रतीक माना गया है। इसे धारण 


करने पर व्यक्ति को समस्त सुखों की प्राप्ति होती है।


14. चौदह मुखी रुद्राक्ष भगवान हनुमान का स्वरूप है। इसे सिर पर 


धारण करने से व्यक्ति परमपद को पाता है।


15. पंद्रह मुखी रुद्राक्ष पशुपतिनाथ का स्वरूप माना गया है। यह संपूर्ण 


पापों को नष्ट करने वाला होता है।


16. सोलह मुखी रुद्राक्ष विष्णु तथा शिव का स्वरूप माना गया है। यह 


रोगों से मुक्ति एवं भय को समाप्त करता है।


17. सत्रह मुखी रुद्राक्ष राम-सीता का स्वरूप माना गया है। यह रुद्राक्ष


 विश्वकर्माजी का प्रतीक भी है। इसे धारण करने से व्यक्ति को भूमि का

 सुख एवं कुंडलिनी शक्ति को जागृत करने का मार्ग प्राप्त होता है।


18. अठारह मुखी रुद्राक्ष को भैरव एवं माता पृथ्वी का स्वरूप माना गया


 है। इसे धारण करने से अकाल मृत्यु का भय समाप्त हो जाता है|


19. उन्नीस मुखी रुद्राक्ष नारायण भगवान का स्वरूप माना गया है यह


 सुख एवं समृद्धि दायक होता है।


20. बीस मुखी रुद्राक्ष को जनार्दन स्वरूप माना गया है। इस बीस मुखी


 रुद्राक्ष को धारण करने से व्यक्ति को भूत-प्रेत आदि का भय नहीं

सताता।


21. इक्कीस मुखी रुद्राक्ष रुद्र स्वरूप है तथा इसमें सभी देवताओं का वास

 है। इसे धारण करने से व्यक्ति ब्रह्महत्या जैसे पापों से मुक्त हो जाता

 है।

..
....................................................................हर-हर महादेव



0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें