शुक्रवार, 9 सितंबर 2016

तंत्र बाधा और रोग निवारण

मंत्र :- ॐ ह्रीं ब्री बिकट वीर हनुमंत वीर मंत्र को मारो । उलट दो पाताल काल जाल संधारो । जो धन जहाँ से आय वहाँ को जाय । टोनहिन का टोना ओझा को दंड  द्रोही शत्रु को मारो न मारो तो माता अंजनी का पिया दूध हराम करो । माता सीता  पे चोट पड़े हूं फट स्वाहा । 

प्रयोग :- हनुमान जी की पूजा करके 108 बार जप करे ।  पीड़ित का अगरबत्ती से 9 बार झाड़ा लगाने से लगाने से आराम  होता है ।  

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें