सोमवार, 3 फ़रवरी 2014

ऋण नाशक उपाय

Follow on Bloglovin




शुक्ल पक्ष के मंगलवार को 21 गोमती चक्र लेकर उनको समुद्री नमक मिले पानी में एक घंटा डुबो दें। इसके पश्चात इन गोमती चक्रों को कच्चे दूध से धोंले तथा प्रत्येेक गोमती चक्र पर गणेश जी का स्मरण करते हुए सिन्दूर लगावें । यह कर चुकने के बाद इन गोमती चक्रों को चौकी पर लाल कपड़ा बिछा कर रखें तथा 21 लाल गुंजा 'रत्ती हल्दी की एक गांठ तथा तांबे का एक सिक्का रखें । ओर धूप - दीप जलाकर विघ्ननाशक ऋणहर्ता गणेश जी का ध्यान करते हुए निम्न मंत्र की माला जपें - ऊँ गं ऋणहर्ताय नम:। समस्त गोमती चक्रों को उसी लाल कपड़े में पोटली बनाकर लाल डोरे से लपेट कर अपने व्यवसायिक स्थल या घर की तिजोरी अथवा धन रखने वाले स्थान पर रख दें। अब नित्य धूप देकर उक्त मंत्र की माला का जाप करें। थोड़े ही दिनों में कर्ज की नियमित किस्त चुकाने हेतु धन आगमन होने लगेगा। रोजगार में वृद्धि होगी तथा चिंता व तनाव दूर होकर समृद्धि के अवसर बनेंगे।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें