शनिवार, 18 जनवरी 2014

माँ काली का मनत्रर

Follow on Bloglovin

माँ काली को सिघ्र प्रशऩ करने का मनत्रर डंड भूज डंड प्रचंड नौ खंड प्रगट देवी तूंही छुंडन के छुड खगर दीखा खपर लीए खड़ी कालीका तागड़ दे मसतंग चोला जरीका फागड़ दीफू गलेफुल माल जय जय जयनत आदि सकती कालका खपर धनी मचकुट छनदनी देव जय जय महीरा जय मरदनी चड मुड विडाल विडलनी निशुमभ को दलनी जय शिव राजेशवरी अमरित यगय धाती द्रविड़ द्रविड़नी ऊँऊँऊँ सवाहा..........इस मनत्र को ३३३ बार नितय घी का दीपक जलाकर भाव से २१ दिन जपे सभी काम सफल होगे और माँ की कॄपपा सिघ्र होगी माँ आपको अपने पुत्र सम जानेगी जय महा काली

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें