शनिवार, 18 जनवरी 2014

बुरी संगत से बचाने के लिए करे

Follow on Bloglovin

बुरी संगत से बचाने के लिए करे
बेटा किसी बुरी संगत मे फंस जाए पती जुआ खेलने लग जाए या बात बात पे झगडा करे मार पीट करे बचचे आवारा हो जाए तो .......आप शनीवार को एक काली मिरच मिकस एक पापड़ ले उसको थाली मे रखे उस पापड़ पर दो लोहे की कील रखे १० ग्राम साबत उड़द रखे १० ग्राम गुड़ रखे एक सरसों के तेल का दीपक रखे दीपक मे चुटकी भर सिनदुर डाले दीपक को प्रजलीत करे एक ताँबे का लोटा पानी का ले लौटे मे थोड़े काले तील डाले और थाली को पीपल के पस लेके जाए पापड़ पीपल की जडो मे रखे फिर ये सारा सामान पापड़ पर रखे दीपक जलाएं पानी का लौटा पीपल की जड़ो मे चढाएं और हाथ जोड़ कर कामना करे फला वयकती या मेरा बेटा या मेरा पती पतनी सुधरे जीसके लिए कर रहे हो उसके सुधार की कामना करे यह का औरत पुऱूष कोइ भी कर सकता है ये केवल शनीवार को 
शाम को ना सुरय असत हो ना बाहर हो यानी शाम को गौधुली के समय 7शनिवार करे साथ मे 7 शनिवार व्रत करे केसी भी बुरी 
संगती पे फसे हुए का सुधार हो जाएगा यह मेरा अनुभूत प्रयोग है

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें