रविवार, 16 नवंबर 2014

मोहन

मोहन

 दृष्टि द्वारा मोहन करने का मन्त्र


ॐ नमो भगवति, पुर-पुर वेशनि, सर्व-जगत-भयंकरि ह्रीं ह्रैं, ॐ रां रां रां क्लीं वालौ सः चव काम-बाण, सर्व-श्री समस्त नर-नारीणां मम वश्यं आनय आनय स्वाहा।”

विधिः- किसी भी सिद्ध योग में उक्त मन्त्र का १०००० जप करे। बाद में साधक अपने मुहँ पर हाथ फेरते हुए उक्त मन्त्र को १५ 

बार जपे। इससे साधक को सभी लोग मान-सम्मान से देखेंगे।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें