गुरुवार, 14 अप्रैल 2016

दुःस्वप्न नाशक प्रयोग

ॐ णमो अरहंताणं दीवोत्ताणं,


सरणगइपइट्ठाणं, अप्पडिदयवर, नाणदंसण, धराणं, विअट्टछउम्माणं ऐँ 

स्वाहा।



प्रतिदिन एक माला का जप करेँ तो बुरे स्वप्न कभी नहीँ आतेँ। सम्मान 

बढ़ेगा।कहीँ जाना हो तो मंत्र का 3 बार उच्चारण करके जाएं।तो मार्ग के 

सभी भय समाप्त हो जातेँ है कार्य सफल हो जाता है।


अनुभूत प्रर्योग़ है।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें