गुरुवार, 14 अप्रैल 2016

श्री दुर्गा सूक्त

श्री दुर्गा सूक्त

(किसी भी प्रकार की सांसारिक समस्या मे सूक्त का108बार जाप उत्तम 


होता है)

ॐ जातवेदसे सुनवाम सोममरातीवतो निदहाति बेद।

स नः पर्षदति दुर्गाणी विश्व नावेद सिन्धुं दुरितात्यग्नि।

तामग्निवर्णाँ तपसा ज्वलन्तिँ वैरोचनीँ कर्मफलेषु जुष्टाम।

दुर्गा देवी शरणामहं प्रपद्ये सुतरसि रसते नमः।

अग्नेत्वं पारपा नव्यौ अस्मान्ष्तस्तिभिरितिदुर्याणि विश्वा।

पूश्चप्रथ्वी बहुला न इर्वो भवा ताकाय तनताय शंयो।

विश्वानि नो दुर्गहा जातवेदं सिन्धुं न नावादुरितातिपर्षि।

अग्ने अत्रिवन्मनसा शुभानोऽस्माकं बोध्यवितां तनूनाम्।

प्रतनाजितं सहमानमुग्रमग्निं हवेम् परमात्सधस्मात्।

0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें